IPL 2021 टलने से मुश्किल में BCCI, 2 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा का हो सकता है नुकसान

नई दिल्ली: आईपीएल 2021 (IPL 2021) के बायो बबल (Bio Bubble) में कोरोना वायरस (Coronavirus) की एंट्री के बाद टूर्नामेंट को अनिश्चित काल के लिए सस्पेंड कर दिया गया है. बीसीसीआई (BCCI) के लिए ये फैसला इतना आसान नहीं.

IPL टालने पर मजबूर हुई बीसीसीआई

आईपीएल टलने से बीसीसीआई (BCCI) को ब्रॉडकास्ट और स्पॉनसरशिप राशि में 2 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा का नुकसान हो सकता है. पिछले कुछ दिनों में नई दिल्ली और अहमदाबाद में खिलाड़ियों और सपोर्ट स्टाफ के बीच कोरोना वायरस के कई मामले सामने आने के बाद बीसीसीआई को आईपीएल को स्थगित करने को मजबूर होना पड़ा.

2000 करोड़ से ज्यादा का नुकसान

बीसीसीआई (BCCI) के एक सीनियर अधिकारी ने नाम जाहिर नहीं करने की शर्त पर पीटीआई को बताया, ‘इस सीजन को बीच में स्थगित करने से हमें 2000 से 2500 करोड़ रुपये का नुकसान हो सकता है. मैं कहूंगा कि 2200 करोड़ रुपये की राशि ज्यादा सटीक होगी.’

सिर्फ 24 दिन हुआ IPL 2021

इस 52 दिन चलने वाले 60 मैचों के टूर्नामेंट का समापन 30 मई को अहमदाबाद में होना था. हालांकि सिर्फ 24 दिन क्रिकेट खेला गया और इस दौरान 29 मैचों के आयोजन के बाद कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण टूर्नामेंट को स्थगित करना पड़ा.

ब्रॉडकास्ट में होगा नुकसान

बीसीसीआई को सबसे अधिक नुकसान स्टार स्पोर्ट्स से टूर्नामेंट के प्रसारण अधिकारी से मिलने वाली राशि का होगा. स्टार का 5 साल का करार 16 हजार 347 करोड़ रुपये का है जो हर साल 3 हजार 269 करोड़ से कुछ ज्यादा होता है. अगर सीजन में 60 मैच होते हैं तो हर मैच की राशि लगभग 54 करोड़ 50 लाख रुपये बनती है.

स्पॉन्सरशिप में भी नुकसान

स्टार अगर हर मैच के हिसाब से भुगतान करता है तो 29 मैचों की राशि लगभग 1580 करोड़ रुपये होती है. ऐसे में बोर्ड को 1690 करोड़ का नुकसान होगा. इसी तरह मोबाइल निर्माता वीवो टूर्नामेंट के टाइटल स्पॉन्सर के तौर पर हर सीजन 440 करोड़ रुपये का भुगतान करता है और टूर्नामेंट के स्थगित होने के कारण बीसीसीआई को आधी से कम राशि मिलने की उम्मीद है. 

कई और घाटे हो सकते हैं

आईपीएल टलने से बीसीसीआई को और भी नुकसान उठाने पड़ेंगे. जैसे अनअकेडमी, ड्रीम11, सीरेड, अपस्टॉक्स और टाटा मोटर्स जैसी सहायक प्रायोजक कंपनियां भी हैं जिसमें से हर कोई प्रति सत्र लगभग 120 करोड़ रुपये के आसपास भुगतान करती हैं.

उम्मीद से ज्यादा का घाटा

अधिकारी ने कहा, ‘सभी भुगतानों को आधा या इससे कुछ कर दिया जाए और आपको लगभग 2200 करोड़ रुपये का नुकसान होगा. असल में नुकसान इससे कहीं ज्यादा हो सकता है लेकिन यह सीजन का अनुमानित नुकसान है.’ इस नुकसान से केंद्रीय राजस्व पूल (बीसीसीआई जो पैसा आठ फ्रेंचाइजियों को बांटता है) की राशि भी लगभग आधी हो जाएगी.

खिलाड़ियों का नुकसान

अधिकारी ने हालांकि यह नहीं बताया कि टूर्नामेंट के निलंबित होने से प्रत्येक फ्रेंचाइजी को कितना नुकसान होगा. खिलाड़ियों को अनुपात की जगह समय के हिसाब से राशि का भुगतान किया जाएगा. खिलाड़ी ने अगर खुद को टूर्नामेंट के एक हिस्से के लिए उपलब्ध रखा है तो वेतन अनुपात के हिसाब से होगा.

फ्रेंचाइजियों को घाटा मुमकिन

एक सीनियर खिलाड़ी ने हालांकि कहा कि अनुपात तभी लागू होगा जब कोई खिलाड़ी अपनी मर्जी से टूर्नामेंट के कुछ हिस्से के लिए खुद को उपलब्ध रखेगा. आयोजकों ने टूर्नामेंट को बीच में रोका है और ऐसी स्थिति में फ्रेंचाइजी के कम से कम आधे सत्र का नुकसान करने की संभावना है.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *