Sachin Tendulkar ने किया चौंकाने वाला खुलासा, ‘करियर के 12 साल टेंशन में गुजरे’

नई दिल्ली: सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने अपने 2 दशक से भी लंबे करियर में कई कामयाबियां हासिल की और बल्लेबाजी के कई वर्ल्ड रिकॉर्ड्स अपने नाम किए, लेकिन मास्टर ब्लास्टर के लिए ये सफर आसान नहीं था. उन्होंने अपने करियर को लेकर चौंकाने वाला खुलासा किया है.

24 साल का करियर

सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने रविवार को कहा कि अपने 24 साल के करियर के एक बड़े हिस्से को उन्होंने तनाव में रहते हुए गुजारा है. वो बाद में इस बात को समझने में कामयाब रहे कि मैच से पहले तनाव उनकी तैयारी का एक अहम हिस्सा था.
 

यह भी पढ़ें- संजना गणेशन का संडे मॉर्निंग लुक इंटरनेट पर मचा रहा है धमाल

 

बायो बबल से कैसे निपटें?

कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के दौरान बायो-बबल (Bio Bubble) में ज्यादा वक्त बिताने से खिलाड़ियों के दिमागी सेहत पर पड़ रहे असर के बारे में बात करते हुए मास्टर ब्लास्टर ने कहा कि इससे निपटने के लिए इसकी स्वीकार्यता जरूरी है.

‘मैच से पहले टेंशन रहती थी’

सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने ‘अनअकेडमी’ द्वारा आयोजित एक चर्चा में कहा, ‘वक्त के साथ मैंने महसूस किया कि खेल के लिए शारीरिक रूप से तैयारी करने के साथ आपको खुद को मानसिक रूप से भी तैयार करना होगा. मेरे दिमाग में मैदान में प्रवेश करने से बहुत पहले मैच शुरू हो जाता था. तनाव का लेवल बहुत ज्यादा रहता था.’

‘करियर के 10-12 साल टेंशन में गुजरे’

इंटरनेशनल क्रिकेट में शतकों का शतक लगाने वाले इस इकलौते पूर्व खिलाड़ी ने कहा, ‘मैंने 10-12 सालों तक तनाव महसूस किया था, मैच से पहले कई बार ऐसा हुआ था जब मैं रात में सो नहीं पता था. बाद में मैंने यह स्वीकार करना शुरू कर दिया कि यह मेरी तैयारी का हिस्सा है. मैंने वक्त के साथ इस बात को मान लिया कि मुझे रात में सोने में परेशानी होती थी. मैं अपने दिमाग को सहज रखने के लिए कुछ और करने लगता था.’ उन्होंने कहा इस ‘कुछ और’ में बैटिंग प्रैक्टिस, टीवी देखना और वीडियो गेम्स खेलने के अलावा सुबह चाय बनाना भी शामिल था.

 

 

टेंशन दूर करने के लिए बनाते थे चाय

रिकार्ड 200 टेस्ट मैच खेल कर 2013 में रिटायरमेंट लेने वाले इस महान खिलाडी ने कहा, ‘मुझे मैच से पहले चाय बनाने, कपड़े आयरन करने जैसे काम से भी खुद को खेल के लिए तैयार करने में मदद मिलती थी. मेरे भाई ने मुझे यह सब सिखाया था, मैं मैच से एक दिन पहले ही अपना बैग तैयार कर लेता था और यह एक आदत सी बन गई थी. मैंने भारत के लिए खेले अपने आखिरी मैच में भी ऐसा ही किया था.’

‘खिलाड़ियों को होती हैं मुश्किलें’

तेदुलकर ने कहा कि खिलाड़ी को मुश्किल समय का सामना करना ही पड़ता है लेकिन यह जरूरी है कि वह बुरे समय को स्वीकार करें. उन्होंने कहा, ‘जब आप चोटिल होते है तो डॉक्टर या फिजियो आपका इलाज करते हैं दिमागी सेहत के मामले में भी ऐसा ही है. किसी के लिए भी अच्छे-बुरे समय का सामना सामान्य बात है.’

 

 

समाधान खोजने की सलाह

सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने कहा, ‘इसके लिए आपकों चीजों को स्वीकार करना होगा. यह सिर्फ खिलाड़ियों के लिए नहीं है बल्कि जो उसके साथ है उस पर भी लागू होती है. जब आप इसे स्वीकार करते है तो फिर इसका समाधान ढूंढने की कोशिश करते है.’ 

चेन्नई में हुआ दिलचस्प वाक्या

सचिन ने चेन्नई के एक होटल कर्मचारी का जिक्र करते हुए कहा कि कोई भी किसी से भी सीख सकता है. उन्होंने बताया, ‘मेरे कमरे में एक कर्मचारी डोसा लेकर आया और उसे टेबल पर रखने के बाद उसने मुझे एक सलाह दी. उसने बताया कि मेरे एल्बो गार्ड के कारण मेरा बल्ला पूरी तरह से नहीं चल रहा, यह वास्तव में सही तथ्य था. उसने मुझे इस समस्या से निजात दिलाने में मदद की.’

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *